SHARE

गांधीनगर। गुजरात में हुए राज्य सभा चुनाव मेंएक सीट पर कांग्रेस ने विजय हासिल की है। कश्मकश में फंसे कांग्रेस उम्मीदवार अहमद पटेल अपनी सीट बचाने में सफल हो गए। उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी बीजेपी उम्मीदवार बलवंतसिंह राजपूत को हराया। इस सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार अहमद पटेल पांचवी बार राज्य सभा पहुँच रहे हैं। अहमद पटेल को जीत के लिए निर्णायक 44 वोट मिले। वहीँ दो अन्य सीटों पर बीजेपी उम्मीदवार और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी जीत गए हैं। बता दें कि गुजरात की तीन राज्य संभा सीटों पर चार उम्मीदवार थे। सत्तारूढ़ दल से होने के कारण बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की जीत को पहले से तय माना जा रहा था। लेकिन तीसरी सीट पर बीजेपी ने कांग्रेस छोड़ कर गए बलवंतसिंह राजपूत को उम्मीदवार बनाकर कांग्रेस उम्मीदवार अहमद पटेल के समक्ष चुनौती पेश की।

loading...

जहाँ एक तरफ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के एक विधायक ने क्रॉस वोटिंग कर बीजेपी को वोट दिया वहीँ बीजेपी विधायक नलिन कोटडिया ने क्रॉस वोटिंग करते हुए कांग्रेस उम्मीदवार के समर्थन में वोट डाला। वहीँ जनता दल यूनाइटेड के विधायक छोटुभाई वसावा ने पार्टी व्हिप के खिलाफ कांग्रेस उम्मीदवार को वोट दिया।

इससे पहले आज कांग्रेस के दो बागी विधायकों द्वारा बीजेपी प्रिसाइडिंग ऑफिसर को अपना मत पत्र दिखाने के बाद कांग्रेस ने उनके वोट रिजेक्ट करने की मांग उठायी थी। कांग्रेस ने इस मामले को लेकर चुनाव आयोग का दरवाज़ा खटखटाया तो बीजेपी भी बागी विधायकों के वोट रद्द करने के खिलाफ चुनाव आयोग पहुँच गयी।

करीब चार घंटे तक चले हाई वोल्टेज पोलिटिकल ड्रामे के दौरान बीजेपी की तरफ से 6 केंद्रीय मंत्री भी चुनाव आयोग भेजे गए। चुनाव आयोग ने तीसरी बार कांग्रेस और बीजेपी नेताओं से मिलने से इंकार करते हुए रात 11.30 बजे फैसला सुनाया। जिसमे वैलेट पेपर दिखाने वाले दोनों कांग्रेस विधायकों के मतपत्र रद्द करने का एलान किया।

कांग्रेस के बागी विधायकों के मत पत्र रद्द होने से जहाँ बीजेपी को बड़ा झटका लगा वहीँ कांग्रेस की जीत की उम्मीदें बंधी। हालाँकि चुनाव आयोग के फैसले पर बीजेपी ने नाराज़गी भी जताई। गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन भाई पटेल ने इस मामले को कोर्ट में लेजाने की धमकी भी दी लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

अहमद पटेल की जीत से कांग्रेस खेमे में ख़ुशी की लहर दौड़ पड़ी है। अहमद पटेल की जीत को इस वर्ष गुजरात में होने जा रहे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की एक बड़ी उपलब्धि के रूप में देखा जा रहा है। वहीँ कश्मकश वाली सीट पर कांग्रेस उम्मीदवार की जीत से राज्य में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल भी बढ़ेगा।